Home » हिंदी » ट्रेंडिंग » बिल नहीं तो ट्रेन में खाएं मुफ्त खाना, भारतीय रेलवे ने शुरू की नई पॉलिसी

बिल नहीं तो ट्रेन में खाएं मुफ्त खाना, भारतीय रेलवे ने शुरू की नई पॉलिसी

अगर आप ट्रेन का सफर करते हैं, तो यह खबर आपके काम की है. इंडियन रेलवे ने ‘नो बिल, फ्री फूड पॉलिसी’ लॉन्च की है, यानी अब खाने का बिल नहीं तो पैसा नहीं.भारतीय रेलवे में अक्सर यह देखा गया है की पेंट्री कार वाले हमसे अपनी मर्जी से खाने के दाम लेते हैं क्यूंकि रेलवे में कई बार खाना खरीदने पर बिल नहीं दिया जाता है. रेल यात्रियों की यह भी शिकायत है कि उनसे खाने की तय दाम से अधिक कीमत वसूली जाती है.

no bill free food policy
no bill free food policy

जानिए क्या हैं नो बिल, फ्री फूड पॉलिसी :

भारतीय रेलवे में वेंडरों द्वारा खाने के तय दामों से ज्यादा पैसे लेने की 7000 शिकायतें मिलने के बाद रेल मंत्री पियूष गोयल के कड़े निर्देशों का पालन करते हुए रेलवे विभाग ने 31 मार्च 2018 के बाद सभी वेंडरों को यात्रियों को बिल देना अनिवार्य कर दिया है रेलवे ने कहा है कि यात्री अब खाना लेने के बाद इसका बिल मांगें और अगर कोई वेंडर बिल देने से मना करता है तो खाने के पैसे न दें.

रेलमंत्री ने यह भी आदेश दिया है कि अगर कोई वेंडर खाने के बॉक्स के ऊपर कीमत को नहीं लिखता है तो उसका लाइसेंस रद्द कर दिया जाना चाहिए. पिछले साल रेलवे ने दो कैटरर्स के कॉन्ट्रेक्ट को अधिक कीमत वसूलने की शिकायत की वजह से रद्द कर दिया था. साथ ही कई कैटरर्स पर भारी जुर्माना भी लगाया गया.

रेलवे इंस्पेक्टर रखेंग़े निगरानी:

रेलवे ने कहा है कि यात्री अब खाना लेने के बाद इसका बिल जरूर मांगें. अगर कोई वेंडर बिल देने से मना करता है तो खाने के पैसे न दें. इस नई पाॅलिसी का नोटिस उन सभी ट्रेनों में 31 मार्च से लगाया जाएगा, जिन ट्रेनों में यात्री सफर के दौरान खाना खरीद कर खाते हैं. यह नई योजना ठीक से काम कर रही है या नहीं इसके लिए रेलवे इंसपेक्टरों को बहाल किया जाएगा, जो इस बात का ध्यान रखेंगे कि यात्रियों से तय दाम के मुताबिक पैसे लिए जा रहे हैं, या नहीं इसका सही-सही बिल दिया जा रहा है या नहीं.

यह भी पढ़े : दोगने दाम पर मिलने वाले रेलवे के खाने की ये है असली कीमत

जानिए: एक माँ की अपने बच्चे को दूध पिलाने की फोटो पर क्यों हो रहा है बवाल

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *