Home » हिंदी » व्यक्ति विशेष » कभी किराये के नहीं थे पैसे आज है करोड़ों की कंपनी के मालिक

कभी किराये के नहीं थे पैसे आज है करोड़ों की कंपनी के मालिक

हम सभी हर रोज बात करते हैं की Pollution बढ़ रहा इसको काम करना चाहिए है लेकिन एक इंसान ऐसे भी है जिन्होंने सिर्फ बोला नहीं बल्कि कर के दिखाया। आज हम इस पोस्ट में बात करने जा रहे है इंडिया में Green Gifting की शुरुआत करने वाले अन्नू ग्रोवर के बारे में।

Annu grover
Annu grover

कौन हैं अन्नू ग्रोवर :

अन्नू ग्रोवर Nurturing Green कंपनी के मालिक है जो आज करोड़ो रूपये का टर्नओवर कर रही है। हाल ही में उनकी कंपनी ने हुड्डा मेट्रो स्टेशन गुरुग्राम में ऑक्सीजन चैम्बर शुरू किया है जहां लोग शुद्ध हवा का लुफ्त उठा सकते हैं

कैसे की शुरुवात :

देश विदेश में बढ़ रहे प्रदूषण के स्तर को देखते हुए अन्नू ग्रोवर ने लोगो को इसके प्रति जागरूक करने की सोची और ऑस्ट्रिया से अपनी नौकरी छोड़ कर अपने देश लौट आये वापिस आते ही उन्होंने 2009 में 5000 रूपये से Nurturing Green नाम से कंपनी शुरू की जो लोगो को गिफ्ट्स के रूप में पर्यावरण को शुद्ध करने वाले पौधे गिफ्ट करने के लिए जागरूक करती है।
उन्होंने वैलेंटाइन डे व् त्योहारों पर मिठाई या अन्य गिफ्ट न देककर पर्यावरण को शुद्ध करने वाले पौधे गिफ्ट करने का आईडिया दिया जो काफी लोगो को अच्छा लगा

Arun grover with his wife
Arun grover with his wife

रहने को नहीं थे पैसे :

एक समय ऐसा भी आया की उनके पास किराया देने तक के पैसे नहीं थे। उस समय उनकी गर्लफ्रेंड ने एक साल तक उसको अपने साथ रखा और अपने महीने की 17000 की सैलरी से हर महीने 4 हज़ार खर्चा भी दिया।

पापा ने बात करनी बंद कर दी थी :

अन्नू के पिताजी को उनका ये पौधा बेचने का आईडिया पसंद नहीं आया और 18 महीने तक उनसे बात नहीं की। उनका कहना था की वो इस काम को बंद करके उसके बिज़नेस को ज्वाइन करे। लेकिन अन्नू ने हार नहीं मानी और लगातार काम करते रहे।

फिर 2013 में वो दिन भी आया जब उनकी कंपनी ने उनके पापा के बिज़नेस की 30 साल की कमाई से ज्यादा कमा लिया। और 2016 में उन्होंने अपने पापा की जिंदगी भर की कमाई से 3 गुना काम लिया। इस साल अन्नू अपनी पिछली सारी कमाई से 3 गुना ज्यादा कमाई की योजना बना रहे हैं

अन्नू ग्रोवर की मेहनत व् जज्बे को IndiaDekho का सलाम

आपको यह कहानी कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बतायें और ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें।

हौसले की और कहानियाँ :

डिलिवरी बॉय ने खड़ी की अपनी कंपनी, कमाता है लाखों रुपये

किसान पिता की 3 बेटियां और तीनों ही बनीं लेफ्टिनेंट

एसिड ने झुलसा दिया था चेहरा आज है प्रेरणा की श्रोत

इस लड़की ने किया ऐसा काम आप भी करेंगें सलाम

कभी बेचते थे अखबार आज शहीदों के परिवारों को दिला रहे हैं एक नयी पहचान

 

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *