Home » हिंदी » व्यक्ति विशेष » किसान पिता की 3 बेटियां और तीनों ही बनीं लेफ्टिनेंट

किसान पिता की 3 बेटियां और तीनों ही बनीं लेफ्टिनेंट

हरियाणा एक ऐसा राज्य है जो ज्यादातर लड़कियों के ऊपर अत्याचार और भ्रूण हत्या के लिए अधिक जाना जाता था। पर आज हालत बदल चुकी है। पहले रिओ ओलिंपिक में भारत का परचम लहराने वाली साक्षी मलिक और उसके बाद फोगाट बहनों पर बनी फिल्म ‘दंगल’ की वजह से हरियाणा को देखने का लोगो का नज़रिया बिलकुल बदल चूका है।

इसी परंपरा को आगे बढ़ाते हुए हरियाणा की और तीन बहनों ने इस राज्य का नाम रौशन किया है। ये तीनो ही बहने भारतीय सेना में शामिल हो चुकी है।

3 girls from haryana

रोहतक के किसान प्रता​प सिंह देशवाल दो बेटियां प्रीति (23) और दीप्ति (22) और भतीजी ममता (24) ने यह उपलब्धि हासिल की है। तीनों में देश की सेवा का इतना जज्बा था कि बचपन में ही सेना में जाने की ठान ली थी। तमाम चुनौतियों को पीछे छोड़ते हुए दो सगी बहनों व एक कजन सिस्टर ने अब सेना की मेडिकल कौर में लेफ्टिनेंट के पद पर ज्वाइनिंग हासिल की है। बेटियों की इस उपलब्धि पर पिता काफी गर्व महसूस करते हैं

मूल रूप से झज्जर के खेड़का गुर्जर गांव के रहने वाले प्रताप सिंह देशवाल ने बताया कि हमारे घर में कोई फौज में नहीं है। पहली बार बेटियों ने जब अपनी सोच बताई तो अजीब लगा। फिर समाज की परवाह न करते हुए बेटियों को पढ़ाने का फैसला लिया। हालांकि पढ़ाई महंगी थी और खेतीबाड़ी के सहारे सब मुमकिन नहीं था, लेकिन बेटियों को बेटों की तरह पाला और दिन-रात मेहनत कर बेटियों को लेफ्टिनेंट बनाकर ही दम लिया

देशवाल कहते हैं कि बेटियों को पढ़ाने से दो घर सुधरेंगे। फिर समाज को एक अच्छा संदेश देना भी था। वहीं, ममता की मां सुमित्रा ने बताया कि प्रताप सिंह ने ही उनकी बेटी को भी पढ़ाया और अब वे सेना में जाकर देश व परिवार का नाम रोशन करेगी। आर्मी मेडिकल कोर में भर्ती होने के बाद अब अलग-अलग राज्य में ज्वानिंग मिली है।

इन तीनो बहनों की इस उपलब्धि पर पूरा परिवार गर्व महसूस कर रहा है।

आशा है हरयाणा की इन बेटियों द्वारा शुरू की गयी ये बेहतरीन पहल एक परंपरा की तरह चलती रहेगी।

ये भी पढ़ें :

जानिए : क्यों आपके बैंक खाते से रूपये काटे जा रहे हैं

डिलिवरी बॉय ने खड़ी की अपनी कंपनी, कमाता है लाखों रुपये

 

जानिए : लीक से हटकर काम करने वाले वाले  5 होनहार IAS अफसरों के बारे में

 

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *